Kahan se aaya Corona virus | कहां से आया कोरोनावायरस जानिए पूरा सच। How to safe Corona virus

Corona virus
कोरोना वायरस के बढ़ते हुए खतरे को देखते हुए। आज हम इस पोस्ट में चर्चा करेंगेे कि कोरोना वायरस आयाा कहां से।
चीन से निकले खतरनाक वायरस। का रहस्य अब तक सुलझाया नहीं जा सका है। कोरोनावायरस - चीन से निकलकर। भारत सहित। अन्य देशों में भी पहुंच चुका है। इसके सबसे ज्यादा मामले चीन के अलावा। इटली और ब्रिटेन में देखे जा रहे हैं। सवाल यह पैदा होता है कि यह कोरोनावायरस पैदा कैसे हुआ?
सवाल नंबर 1 क्या कोरोनावायरस? चीन में सांप और। चमगादड़ खाने से पैदा हुआ।
सवाल नंबर 2 या फिर चीनी से। एक हथियार की तरह इस्तेमाल किया है विश्व युद्ध की स्थिति पैदा करने के लिए
1 number के सवाल का जवाब यही है कि चीनी लोग अपने खाने में सांप और चमगादड़ का प्रयोग करते थे। यह लोग चमगादड़  का सूप बनाकर पीते थे।
और सांपों को। एक विशेष प्रकार के व्यंजन के रूप में प्रयोग करते थे आप ही की वीडियो इंटरनेट पर देख सकते हैं।
वैज्ञानिकों की मानें तो  चीन में। इस प्रकार के व्यंजन खाने का शौक प्राचीन। सभ्यता से चला रहा है। आपको बता दें कि छात्रों में यह वायरस पाया जाता था। चमका दलों ने जब सांपों को काटा और ही लोगों ने जब सांपों को खाया तब यह वायरस। मनुष्य के। रक्त में प्रवेश कर गया।
और इस वायरस के सबसे सामान्य लक्षण  दिखाई देने लगे जैसे। जुकाम खांसी गले में सांस लेने में दिक्कत। इस प्रकार की दिक्कत नॉर्मल ही लोगों को होती रहती है। लेकिन जब वैज्ञानिकों ने। इसके मरीजों की बढ़ती संख्या की जांच की तो पाया कि यह वायरस बहुत ही खतरनाक है।
2 number किस सवाल का जवाब यह है कि चाइना में? एक। लैबोरेट्री में इस प्रकार के वायरस को बनाए जाने की। सूचना हमें इंटरनेट और सोशल मीडिया के माध्यम से मिलती है कहा जा रहा है कि चाइना ने? विश्व युद्ध छेड़ने की मंशा से अपने लेबोरेटरी में कोरोना नामक वायरस बनाया लेकिन वहां के लेबर्ट्री के डॉक्टर और वैज्ञानिक। चीन ली। ने ही इस वायरस की पुष्टि की थी और कुछ दिन के बाद उनकी मृत्यु हो गई थी।
बताया जा रहा है कि वहां के कोरोना वायरस की पुष्टि करता विज्ञानिक की मृत्यु। चाइना के। गवर्नमेंट सिस्टम के तहत हुई। उसको छिपाया जा रहा है दुनिया से इसलिए। क्योंकि इस डॉक्टर ने अपनी सोशल मीडिया अकाउंट्स के माध्यम से इस खबर को लिख कर दिया था। यह कहां तक सकते हैं इसकी पुष्टि होना अभी बाकी है क्योंकि कोई भी देश अगर इस प्रकार का हथियार बनाएगा तो अपने ही देशवासियों को निशाना नहीं बनाएगा। लेकिन यह सिर्फ दिखावा है। या फिर सत्य। इसकी जांच प्रत्येक देश की खुफिया एजेंसियां कर रही है।
नमस्कार मिलते हैं अगली ऐसी ही रोचक पोस्ट को लेकर।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां