स्वयं सहायता समूह में नौकरी 2022 | new job in swayam sahayata samuh 2022

 bk का कार्य करने पर मिलेंगे ₹9500 प्रति महीना वेतन।



स्वयं सहायता समूह में bk (book keepar ) का कार्य करने के लिए मानदेय निश्चित किया गया है। आइए जानते हैं बीके का कार्य करने वाली महिला के पद पर आवेदन कैसे करें क्या कार्य करना होगा इत्यादि




राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत चल रहे स्वयं सहायता समूह में महिलाओं के लिए भारत सरकार ने रोजगार के अवसर  प्रदान किए हैं।
swayam sahayata samuh में ग्रामीण क्षेत्र में पहले से चल रहे स्वयं सहायता समूह में समूह अध्यक्ष कोषाध्यक्ष समूह सखी के अलावा एक और पद दिया जाएगा। जिसका नाम bk होगा। स्वयं सहायता समूह के अंतर्गत इस महिला का कार्य स्वयं सहायता समूह से संबंधित सभी रजिस्टर से संबंधित कार्यों को करना। स्वयं सहायता समूह से जुड़े साप्ताहिक वित्तीय बचत और समूह की प्रत्येक बैठक का लेखा-जोखा रजिस्टर में दर्ज करना। समूह से जुड़े सभी सदस्यों की जानकारी रजिस्टर में दर्ज करना और उनका लेखा-जोखा रखना होगा। इसके लिए भारत सरकार ने इस पद पर नियुक्त महिला के लिए ₹9500 प्रति माह वेतन निर्धारित किया है। 
स्वयं सहायता समूह से जुड़ी अन्य महिलाओं को किसी भी प्रकार का कोई मासिक वेतन देने का प्रावधान नहीं किया गया। केवल इस पद के लिए चयनित महिला को ही मासिक वेतन दिया जाएगा।
सरकार ने इस पद पर नियुक्त महिला के लिए अभी स्पष्ट दिशानिर्देश जारी नहीं किए हैं। जैसे ही इस पद के लिए स्पष्ट दिशानिर्देश जारी होते हैं हम आपको सूचित कर देंगे।

bk पद पर नियुक्ति कैसे होगी?

राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत चल रहे स्वयं सहायता समूह में समूह के रजिस्टर का लेखा-जोखा के कार्य हेतु भारत सरकार की तरफ से एक समूह की महिला की नियुक्ति की जाएगी। इस पद का नाम bk होगा 
इस पद पर नियुक्ति भारत सरकार की तरफ से की जाएगी। जिस स्वयं सहायता समूह का ग्रेड अच्छा होगा स्वयं सहायता समूह सप्ताहिक बचत और समूह के नियम का पूरी तरह पालन करता होगा। स्वयं सहायता समूह में से प्रमुख महिला की नियुक्ति इस पद पर की जाएगी।

स्वयं सहायता समूह में नौकरी।


राष्ट्रीय आजीविका मिशन के तहत चल रहे स्वयं सहायता समूह में अब तक किसी भी प्रकार की कोई भी नौकरी भारत सरकार की तरफ से नहीं निकाली गई है जिसके लिए भारत सरकार मासिक वेतन देती हो। स्वयं सहायता समूह का गठन महिलाओं की वित्तीय आर्थिक सहायता करने के लिए बनाए गए। ग्रामीण क्षेत्र में महिलाओं की आर्थिक स्थिति में सुधार लाने एवं उनके जीवन स्तर को ऊपर उठाने के लिए स्वयं सहायता समूह का गठन किया गया है
भारत सरकार ने ग्रामीण क्षेत्र में चल रहे स्वयं सहायता समूह की महिलाओं के लिए खुशखबरी देते हुए उन्हें। समूह के रजिस्टर का लेखा-जोखा करने के लिए मासिक वेतन देने हेतु एक पद पर नियुक्त करने की बात कही है।

एक टिप्पणी भेजें

1 टिप्पणियाँ